Home » OTHER » राफ्टिंग चैलेंज कप में आईटीबीपी ओवर आल चैंपियन

राफ्टिंग चैलेंज कप में आईटीबीपी ओवर आल चैंपियन

रूस्तम जी व्हाइट वाटर राफ्टिंग चैलेंज कप का समापन
मैराथन इवेंट में आईटीबीपी ने गोल्ड, बीएसएफ ने सिल्वर व उत्तराखंड पुलिस ने कांस्य मेडल जीता
स्प्रिंग इवेंट में आईटीबीपी ने गोल्ड, बीएसएफ ने सिल्वर व आईटीबीपी ने कांस्य मेडल जीता

डोईवाला।
बुधवार को बीएसएफ की ओर से आयोजित रूस्तम जी व्हाइट वाटर राफटिंग चैंलेंज कप का समापन हो गया। प्रतियोगिता के मैराथन इवेंट में आईटीबीपी ने गोल्ड, बीएसएफ ने सिल्वर व उत्तराखंड पुलिस ने कांस्य मेडल जीता। स्प्रिंग इवेंट में आईटीबीपी ने गोल्ड, बीएसएफ ने सिल्वर व आईटीबीपी ने कांस्य मेडल जीता। प्रतियोगिता में 12 टीमों प्रतिभाग कर रही थी। बीएसएफ के संस्थापक और पहले महानिदेशक रूस्तम जी के शताब्दी वर्ष मना रहे सीमा सुरक्षा बल ने गंगा की लहरों में राफ्टिंग चैलेंज कप का आयोजन स्वच्छ गंगा निर्मल गंगा अभियान के तहत 18 अक्तूबर को शिवपुरी में किया गया था।
प्रतियोगिता का समापन डोईवाला स्थित बीएसएफ इंस्टीट्यूट ऑफ ऐडवेंचर एंड एडवांस ट्रेनिंग में किया गया। मुख्य अतिथि राज्यपाल डॉ. केके पाल ने विजेता खिलाड़ियों को सम्मानित किया। उन्होंने कहाकि गंगा में करोडों लोंगों की आस्था है। गंगा को स्वच्छ बनाना हम सभी की जिम्मेदारी है। उन्होंने बीएसएफ के गंगा स्वच्छता अभियान की सराहना की। बीएसएफ के एडीजी आपरेशन डॉ. एपी माहेश्वरी ने बताया चैलेंज कप में बीएसएफ, आईटीबीपी, एसएसबी, उत्तराखंड पुलिस, जीएमवीएन, केएमवीएन सहित 12 राफ्टिंग टीमों ने भाग लिया। प्रतियोगिता शिवपुरी के मरीन ड्राइव से नीम बीच तक लगभग 20 किलोमीटर तक के दायरे में आयोजित की गई। क्लीन गंगा सेव गंगा के तहत प्रतिभागियों ने नारे लगाते हुए लोगों को जागरुक भी किया।
106
अभियान में विभिन्न स्कूल, एनसीसी केडेट, स्काउट गाइड, रेड क्रास, पर्यटक, ग्रामीण और बीएसएफ के जवानों ने सहयोग प्रदान किया। इस दौरान स्वयंसेवियों के द्वारा गंगा तटों पर सफाई भी की गयी। कमांडेट राजकुमार नेगी ने बताया कि 2015 में बीएसएफ ने गोल्डन जुबली वर्ष के तहत स्वच्छ भारत स्वच्छ हिमालय अभियान चलाया था। समापन पर बीएसएफ के पूर्व डीजी सुभाष जोशी, उत्तराखंड पुलिस के एडीजी अशोक कुमार, बीएसएफ के डीआईजी उमेश नयाल, एसडीएम डोईवाला शालीनी नेगी, एसपी ग्रामीण श्वेता चौबे आदि मौजूद रहे।


Leave a Reply