Home » OTHER » पर्यटन के क्षेत्र में गजा का होगा विकासः सीएम

पर्यटन के क्षेत्र में गजा का होगा विकासः सीएम

गजा (टिहरी)।
मुख्यमंत्री हरीश रावत ने नरेन्द्रनगर विधानसभा क्षेत्र के अन्तर्गत राजकीय इण्टर कालेज गजा में जनसभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि राज्य सरकार गांव-गांव के विकास के लिये सकल्पबद्ध है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री रावत ने नगर पंचायत गजा को नवसृजित तथा नकोट से गजा तक 14 कि.मी. सडक के पुनर्निर्माण कार्य, रू. 4 करोड 31 लाख के कार्यो का लोकार्पण किया।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री रावत ने गजा को पर्यटन एवं सौंदर्यकरण के लिये पर्यटन विभाग को सर्वेक्षण हेतु धनराशि मुहैया कराये जाने को कहा। राजकीय वेलमति चैहान महाविद्यालय के लिये 5 लाख रू0 की धनराशि दिये जाने की घोषणा की। इसके अलावा नगर पंचायत गजा के संचालन हेतु 9 सदस्य समिति बनाये जाने के स्वीकृति देने के साथ ही उन्होंने कहा कि नगर पंचायत के कार्यो के लिये धनराशि भी शासन स्तर से अवमुक्त की जायेगी। उन्होंने 2017 में गजा स्थित स्वास्थ्य केन्द्र को उच्चीकरण किये जाने की बात कही। उन्होने महाविद्याालय पोखरी चाका के लिये एक अतिरिक्त विषय खोले जाने, तपोवन से कुजांपुरी तक सड़क निर्माण किये जाने, करूणा देवी मन्दिर के सौन्दर्यकरण एवं आर्थिक मदद दिये जाने की घोषणा की। मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि आगमी वर्षो में महिला सशक्तिकरण के दिशा में कार्य किया जायेगा। जिसके तहत गाॅंव में मनरेगा के तहत कार्य करने वाली महिलाओं का पंजीकरण कर उन्हें पारश्रमिक दिया जायेगा। उन्होने कहा कि मनरेगा के माध्यम से स्वयं सहायता समूह की महिलाओं के लिये खेती के प्रोत्साहन राशि मुहैया करायी जायगी। उन्होने रणाकोट में पाॅलिटेक्निक खोले जाने के सम्बन्ध में कहा कि इसका प्रस्ताव भारत सरकार को भेजा जायगा।
103
मुख्यमंत्री ने कहा कि महिला मंगल दलों को भी सशक्त बनाया जायेगा। उन्होंने स्थानीय लोगों से बच्चों की शिक्षा, पशुपालन एवं कृषि के क्षेत्र में कार्य करने का अनुरोध किया। उन्होने कहा कि राज्य सरकार द्वारा उत्तराखण्ड के 90 प्रतिशत हाई स्कूल एवं इण्टर कालेज में प्रधानाचार्यो की नियुक्ति कर दी गई है। उन्होने चारधाम यात्रा को आपदा के बाद शुरू करने के लिये स्थानीय जनता का आभार व्यक्त किया। मुख्यमंत्री रावत ने प्रदेश सरकार द्वारा जंगली जानवरों से सुरक्षा के लिये बन्दरबाडों के निर्माण के साथ जंगलों में फलदार पेड लगाने के निर्देश भी वन विभाग को दिये। साथ ही पेयजल स्रोतों के संबर्द्धन हेतु चाल-खाल निर्माण के लिये वन, पेयजल, उद्यान, कृषि, जल संस्थान आदि विभागों को समन्वय से कार्य करने को कहा। उन्होनें कहा कि राज्य सरकार 30 हजार नियुक्तियां विभिन्न विभागो में करने जा रही हैं, जिनमें से 14 हजार नियुक्तियों से अधिक की जा चुकी हैं, शेष पर कार्यवाही गतिमान हैं। इस अवसर पर नरेन्द्र नगर पालिका अध्यक्ष दुर्गा राणा, नरेन्द्र नगर कांग्रेस के जिला अध्यक्ष हिमांशु बिजल्वाण, पूर्व प्रमुख विरेन्द्र कण्डारी, पूर्व राज्य मंत्री रमेश उनियाल जिलाधिकारी इन्दुधर बौडाई, मुख्य विकास अधिकारी आशीष भटगाई, सहित भारी संख्या में क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि व स्थानीय जनता मौजूद थी।


Leave a Reply